Hindi Cell

संस्थान में राजभाषा के बढ़ते कदम ..................

अली यावर जंग राष्ट्रीय वाक् एवं श्रवण दिव्यांगजन संस्थान, मुंबई-50 यह सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय, नई दिल्ली के अधीन एक स्वायत्त संस्थान है । एक राष्ट्रीय संस्थान होने के साथ-साथ एक सामाजिक संगठन भी है, जिसका सीधा सरोकार जन सामान्य से है इसलिए संस्थान सदैव राजभाषा हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं का सहारा लेते हुए जन-जन तक अपनी सेवाऍं पहुँचाने में सफल रहा है । संस्थान, भारत सरकार द्वारा विकलांगों की समस्याओं के प्रभावकारी निदान के लिए विकलांगता के चार प्रमुख क्षेत्रों में स्थापित राष्ट्रीय संस्थानों में से एक शीर्ष संस्थान है । इस संस्थान का गठन श्रवण विकलांगों के पुनर्वसन के लिए आवश्यक व्यावसायिक जैसे ऑडियोलाजिस्ट, स्पीच थेरेपिस्ट, अध्यापक, रोजगार अधिकारी, व्यवसायिक सलाहकार मनोवैज्ञानिक आदि के लिए प्रशिक्षण पाठ्यक्रम संचालित करता है और इस क्षेत्र के लिए आवश्यक जनशक्ति विकास का कार्य करता है । श्रवण विकलांगता, शिक्षा एवं पुनर्वास के सभी पहलुओं पर अनुसंधान करना, श्रवण विकलांगता के क्षेत्र में कार्य करनेवाले व्यक्तियों और संगठनों के लिए जानकारी प्राप्त करना, संग्रह करना, समायोजन तथा जानकारी वितरित करता है । समुदाय जागरुकता, सूचना, शिक्षा अनुसंधान, प्रशिक्षण एवं अभिभावकों को मार्गदर्शन करने के उद्देश्य से सामग्री विकसित करना और वितरण करना संस्थान की महत्वपूर्ण गतिविधियों में से एक है । इस प्रकार से संस्थान समाज के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है ।

संस्थान के कार्यक्षेत्र तथा आवश्यकताओं के अनुसार - श्रवण विकलांगों की शिक्षा, पुनर्वास और उससे संबध्द सभी पहलुओं के बारे में जानकारी/मार्गदर्शन प्रदान करना तथा जागरुकता पैदा करने के उद्देश्य से संस्थान द्वारा प्रचुर मात्रा में उपयुक्त सामग्री (यथा-पुस्तिकाएं, लिफलेट, वृत्तचित्र, फिल्मे, कैसेट्स, स्लाइड्स, पोस्टर्स, पत्र-पत्रिकाऍं आदि) हिंदी, मराठी, अंग्रेजी और क्षेत्रीय भाषाओं में विकसित की गयी तथा उसका प्रदर्शन/वितरण किया गया । इस कार्य में हिंदी अनुभाग का अधिकांश योगदान रहा है । हिंदी अनुभाग इस कार्य में सदैव क्रियाशील है । विकसित सामग्री विकलांगों के पुनर्वसन क्षेत्र में कार्य करनेवाली, गैर सरकारी संगठनों/संस्था/व्यक्ति/प्रोफेशनल्स तथा अभिभावकों के लिए मार्गदर्शी/उपयुक्त है । विकलांगता संबंधित जानकारी सामान्य लोगों तक पहुँचाने के लिए सभी सम्भव प्रयास किये जा रहे है- ताकि दूरदराज के इलाकों/गावों में रहनेवाले आम आदमी तक भारत सरकार द्वारा विकलांगजनों के लिए दी जानेवाली निःशुल्क सेवाएं, रियायतें और योजनाओं आदि के बारे में जानकारी सहज उपलब्ध हो सके ।

केन्द्रीय सरकार की राजभाषा नीति के कार्यान्वयन और इस संबंध में राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय द्वारा समय-समय पर जारी किए गए निदेशों/अनुदेशों का अनुपालन सुचारु रुप से सुनिश्चित करने के लिए संस्थान में हिंदी अनुभाग कार्यरत है । हिंदी अनुभाग में तीन कर्मचारी कार्यरत हैः- 1) श्रीमती वृशाली विजय गुजरे, हिंदी अधिकारी 2) श्रीमती नम्रता भास्कर पवार, हिंदी अनुवादक 3) श्रीमती गीता यशवंत नेरुरकर, हिंदी टंकलिपिक

संस्थान में राजभाषा नीति- नियमों के कार्यान्वयन संबंधी निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने की दिशा में की जा रही गतिविधियां/क्रियाकलाप

सरकारी कामकाज हिंदी में करने के लिए सभी कर्मचारियों को प्रेरणा, प्रोत्साहन, पुरस्कार से बढ़ावा दिया जा रहा है तथा राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय द्वारा शुरु की गई सभी प्रोत्साहन योजनाएं कार्यान्वित की गई है । सभी योजनाओं के बारे में समय-समय पर परिपत्र परिचालित कर अवगत कराया जा रहा है ।

  • राजभाषा नीति के कार्यान्वयन संबंधी कार्य के लिए यथाआवश्यक पदों का सृजन एवं भर्ती की गई है.
  • हिंदी के प्रगामी प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए हिंदी कार्यशालाएं एवं हिंदी सॉफ्टवेयर प्रशिक्षण का आयोजन
  • /कर्मचारियों का हिंदी भाषा तथा हिंदी टंकण आशुलिपि प्रशिक्षण पूरा हो चुका है तथा सभी कर्मचारी कार्यालयीन छोटा-मोटा कार्य हिंदी में कर रहे है ।
  • सभी कर्मचारियों को कम्प्यूटर पर यूनिकोड, वॉइस टाइपिंग एवं गुगल ट्रान्सलेशन आदि में हिंदी कार्य करने का प्रशिक्षण दिया गया है .
  • कार्यालयीन कामकाज मूल रूप से हिंदी में करने के लिए कार्यशालाएं, प्रशिक्षण, संदर्भ/सहायक/उपयुक्त किताबें, कार्यालय सहायिका, बृहत प्रशासनिक शब्दावली (अंग्रेजी- हिंदी, हिंदी- अंग्रेजी) शब्दकोश, सरल प्रशासनिक शब्दावली, दैनंदिन प्रयोग में आनेवाले वाक्यांश सूची आदि सभी उपलब्ध कराया गया है जिससे कर्मचारी लाभान्वित हुए है और हिंदी में काम करने का प्रयास कर रहे हैं.
  • राजभाषा कार्यान्वयन समिति की तिमाही बैठकों का नियमित रुप से आयोजन तथा कार्यवृत्त समिति सदस्यों को आवश्यक कार्रवाई के लिए वितरित किया जाता है । हिंदी अनुभाग इस बैठक में लिए गए निर्णयों को पूरी तरह से कार्यान्वित करता है । सभी गतिविधियां कार्यनिष्पादित करता है ।
  • उत्तर मुंबई कार्यालयों की नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठकों में सहभाग तथा अन्य गतिविधियों में सहयोग प्रदान किया जाता है ।

कार्यनिष्पादित अन्य ड्यूटीज

  • आरसीआई- विभिन्न पदविका पाठ्यक्रम परीक्षा के प्रश्नपत्रों का अनुवाद कार्य
  • पुस्तकालयीन किताबों का स्टाक सत्यापन कार्य
  • प्लबिंग सामग्री का स्टॉक सत्यापन कार्य
  • प्रशिक्षण पाठ्यक्रम - परीक्षा के लिए इनविजिलेटर के रुप में कार्य
  • मुंबई विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित बी.एड (विशेष शिक्षा) के प्रश्नपत्रों के अनुवाद कार्य
  • संस्थान में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम में पढ़ने वाले छात्रों द्वारा लिखे गये शोध-निबंधों के प्रश्नावली में आवश्यक संशोधन कार्य

हिंदीपत्रिका के लिए लेख

राजभाषा गतिविधियां और संस्थान के क्रिया-कलापों के बारे में प्रकाशित लेख -

  • मुंबई टॉलिक समाचार न्यूजलेटर वॉल्यूम - 13, अंक-I (जुलाई 2005, 2007,2009)
  • राजभाषा किरण, प्रचार-प्रसार मासिक पत्रिका वॉल्यूम -148 जनवरी-2009
  • राजभाषा प्रयास, वॉल्यूम -17-2011
  • कॉर्पोरेट न्यूज मैगजीन में विज्ञापन - संस्थान की मुख्य गतिविधियाँ, नयी पहल एवं उपलबधियां-2014
  • विकलांगजन सशक्तिकरण विभाग की छमाही हिंदी पत्रिका दिव्यांग प्रवेशांक, वर्ष 2016, विकलांग पुनर्वासः- जनजागृति से दृष्टिकोण में बदलाव

नई पहल

  • कॉक्लिअर इम्प्लान्ट - श्रवण बाधित बच्चों के सशक्तिकरण के लिए आधुनिक टेक्नोलॉजी का प्रयोग तथा सर्जरी- पुनर्वसन प्रक्रिया संबंधित सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करनेवाली पुस्तिका हिदीं में बनाई गई है । इसी तरह कॉक्लिअर इम्प्लान्ट संबंधित संशोधित/अद्यतन जानकारी/मार्गदर्शन पर पुस्तिका बनायी जा रही है । यह सम्पूर्ण जानकारी संस्थान की वेबसाइट पर अपलोड की गई है ।
  • संस्थानान्तर्गत राजभाषा में कामकाज/प्रयोग के लिए उपयुक्त सहायक सामग्री के रुप में तकनीकी शब्दावली निर्माण का प्रथम प्रयास अगस्त, 2003 में किया गया है । उसी तरह प्रशासनिक शब्दावली विकसित करने का कार्य भी चल रहा है । शब्दसंग्रह - लगभग 2500 है और यथाशीघ्र पूरा करने की दिशा में प्रयास जारी है ।

राजभाषामें श्रेष्ठ कार्य-निष्पादन के लिए प्राप्त पुरस्कार

  • मुंबई नराकास समिति - विशेष पुरस्कार, नवम्बर-1993
  • इंदिरा गांधी राजभाषा पुरस्कार, 14 सितम्बर, 2008
  • , स्थानिक साहित्यिक - सामाजिक संस्था, मुंबई, 27 सितम्बर, 2013

अतएव राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा इस संस्थान और इसके नियंत्रणाधीन अधीनस्थ कार्यालयों को राजभाषा प्रयोग संबंधी सौपे गए संवैधानिक और सांविधिक दायित्वों के निष्पादन में और वार्षिक कार्यक्रम में उल्लिखित लक्ष्यों की पूर्ति की दिशा में निरन्तर प्रयास/प्रगति करने का दृढ संकल्प करता है ।

List of Officers and Staff

Sr. No. Name Designation
1 Smt. Vrishali V. Gujre Hindi Officer
2 Smt. Namrata B. Pawar Hindi Translator
3 Smt. Geeta Y. Nerurkar Hindi Typist
Back to top